Friday, June 7, 2019

फ्री में कोई भी पुस्तक कहाँ से और कैसे पढ़ेंगे

June 07, 2019 Posted by BKRICHA No comments
आज इस blog में मैं आपको जो जानकारी देने जा रहा हूं, वह  खोजबीन के बाद मिली है। और मुझे पूरी उम्मीद है कि आपको इस Free Milega  ब्लॉग से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। तो अब सीधे टॉपिक पर चलते हैं।

अगर आप PhD के student हैं या Civil Services की Preparation कर रहे है या फिर आपको पुस्तकों को पढ़ने में रूचि है तो आपके लिए मैं नीचे कुछ Digital Libraries की Link दे दूंगा, जिससे आप पुस्तक को Search करके पढ़ सकते हो।

1. Archive.org 


ये 1996 में शुरू हुई यह एक Non-Profit Organization है और इसका उद्देश्य सभी शोधकर्ताओं, इतिहासकारों, Scholars, the Print Disabled, और आम जनता को मुफ्त Digital Library के Through जानकारी पहुंचाना है। और यहाँ पहुंचकर आपको बहुत सी अन्य Websites के Link भी मिल जाएंगे।

2. World Digital Library 

   
वर्ल्ड डिजिटल लाइब्रेरी (डब्ल्यूडीएल) अमेरिकी लाइब्रेरी ऑफ कांग्रेस की एक परियोजना है, जिसे संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक संगठन (यूनेस्को) के समर्थन में और पुस्तकालयों, अभिलेखागार, संग्रहालयों, शैक्षिक संस्थानों और के सहयोग से किया गया है।
WDL के प्रमुख उद्देश्य निम्नलिखित हैं:
  •      अंतर्राष्ट्रीय और पारस्परिक समझ को बढ़ावा देना;
  •      इंटरनेट पर सांस्कृतिक सामग्री की मात्रा और विविधता का विस्तार करें;
  •      शिक्षकों, विद्वानों और सामान्य दर्शकों के लिए संसाधन प्रदान करें;
  •      देशों के बीच और भीतर डिजिटल विभाजन को कम करने के लिए भागीदार संस्थानों में क्षमता का निर्माण करना। 

3. National Digital Library Of India



सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (NMEICT) के माध्यम से शिक्षा पर अपने राष्ट्रीय मिशन के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) ने एक एकल के साथ सीखने के संसाधनों के आभासी भंडार का एक ढांचा विकसित करने के लिए नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ़ इंडिया (NDL India) पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया है।
यह शोधकर्ताओं और जीवन भर सीखने वालों, सभी विषयों, सभी पहुंच उपकरणों के लोकप्रिय रूप और अलग-अलग सीखने वाले शिक्षार्थियों सहित सभी शैक्षणिक स्तरों के लिए सहायता प्रदान करने के लिए व्यवस्थित किया जा रहा है। यह छात्रों को प्रवेश और प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में मदद करने के लिए विकसित किया जा रहा है, ताकि लोगों को सीखने और दुनिया भर से सर्वोत्तम प्रथाओं से तैयार करने और शोधकर्ताओं को कई स्रोतों से अंतर-जुड़े अन्वेषण करने में मदद करने के लिए सक्षम बनाया जा सके।

4. ई - पुस्तकालय


यह Website भारतीय संस्कृति और सभ्यता से जुडी तमाम लेखकों की अनेकों भाषाओँ में रचित पुस्तकों का एक बहुत ही बढा संग्रह है। जहां से आपको साहित्यिक, और इतिहास के ऊपर लिखी अनेकों पुस्तकें मिल जाएंगी। 

5. e-Pathshala


राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) 1961 में भारत सरकार द्वारा स्कूली शिक्षा में गुणात्मक सुधार के लिए नीतियों और कार्यक्रमों पर केंद्र और राज्य सरकारों की सहायता और सलाह देने के लिए एक स्वायत्त संगठन है। एनसीईआरटी और इसकी घटक इकाइयों के प्रमुख उद्देश्य हैं: स्कूली शिक्षा से संबंधित क्षेत्रों में अनुसंधान को बढ़ावा देना, बढ़ावा देना और समन्वय करना; मॉडल पाठ्यपुस्तकों, पूरक सामग्री, समाचार पत्र, पत्रिकाओं को तैयार और प्रकाशित करना और शैक्षिक किट, मल्टीमीडिया डिजिटल सामग्री आदि विकसित करना, शिक्षकों की पूर्व-सेवा और सेवा में प्रशिक्षण का आयोजन करना; राज्य शैक्षिक विभागों, विश्वविद्यालयों, गैर सरकारी संगठनों और अन्य शैक्षिक संस्थानों के साथ नवीन शैक्षिक तकनीकों और प्रथाओं का विकास और प्रसार करना; स्कूली शिक्षा से संबंधित मामलों में विचारों और जानकारी के लिए समाशोधन गृह के रूप में कार्य करना; और प्राथमिक शिक्षा के सार्वभौमीकरण के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए एक नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करें। अनुसंधान, विकास, प्रशिक्षण, विस्तार, प्रकाशन और प्रसार गतिविधियों के अलावा, NCERT स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में अन्य देशों के साथ द्विपक्षीय सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रमों के लिए एक कार्यान्वयन एजेंसी है। एनसीईआरटी अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ मिलकर विदेशी प्रतिनिधिमंडलों का दौरा करने और विकासशील देशों के शैक्षिक कर्मियों को विभिन्न प्रशिक्षण सुविधाएं प्रदान करता है।

6. NCERT की सभी किताबें हिंदी/English 

NCERT की सभी किताबें हिंदी/English में Download करने के लिए यहां Click करें

7. GoodReads 

8. Read.gov

9. Amazon Books

यहाँ काफी किताबें Free और Paid हैं लेकिन यहाँ पर किताबें पढ़ने के लिए आपको Kindle Application अपने mobile या फिर Desktop में Install करना होगा। 

अगर आपको ये ब्लॉग पसंद आया हो और आपको लगता है कि ये जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे तो इसे Facebook और WhatsApp पर शेयर करें।

0 comments:

Post a Comment